Breaking News

सिद्धार्थनगर। 
जहां लोग चंद रूपए की खातिर अपना ईमान बदल देते हैं वहीं डुमरियागंज थाने में तैनात एक सिपाही ने बुधवार की रात एक महिला के गायब हुए बैग को वापस लौटाकर ईमानदारी की अनूठी मिशाल पेश की है। 

डुमरियागंज नगर पंचायत के वार्ड नम्बर 13 निवासी मोहम्मद तैय्यब अपनी पत्नी मैहरून्निशा के साथ बुधवार की शाम मुम्बई में रह रहे अपने परिवार के लोगों के पास शादी समारोह में शामिल होने जा रहे थे। मैहरून्निशा बैग में अपने कपड़े के साथ ही 25 हजार नगदी और पहनने व देने के लिए जेवरात भी साथ ले जा रही थी। 

डुमरियागंज मंदिर चैराहे पर बस्ती जाने के ललिए दोनों एक मैजिक गाड़ी में बैठे थे। जो वहां से आगे निकलकर बेंवा चैराहे पर सवारी बैठाने के लिए रूक गया। सवारी बैठाने के चक्कर में ड्राइवर ने जेवरात वाला बैग नीचे जमीन पर उतार दिया। सवारी बैठाने के बाद बिना बैग रखे ही चालक वहां से गा़ड़ी बस्ती रवाना कर दिया। इधर पीछे चैराहे पर बैग लावारिश हालत में पड़ा था। 

चैराहे पर रात्रि ड्यूटी पर तैनात सिपाही जयप्रकाश की नजर बैग पर पड़ी, तो वह लोगों से उसके मालिक के बारें में पूछा। मगर किसी ने उस पर अपना हक नहीं जताया। जिसके बाद जयप्रकाश बैग लेकर थाने पर ले आया। करीब 11 बजे रात में तैय्यब बैग को ढूंढते हुए थाने पर सूचना देने पहुंचा। 

इस दौरान जयप्रकाश ने बैग लाकर उसे दिखाया तो दोनों खुष हो गए। दोनों ने बैग खोलकर उसमें रखा 25 हजार रूपया और जेवर चेक किया, तो सब ठीक था। जिसके बाद पुलिस ने बैग उन्हें सौंप दिया। सिपाही की इस ईमानदारी से जहां पुलिस महकमें के लोग खुष हैं, वहीं नगर में भी इसकी चर्चा है। 

इस संबंध में डुमरियागंज प्रभारी थानाध्यक्ष राजेन्द्र प्रताप सिंह यादव ने बताया कि लावारिस हालत में बैग सिपाही को मिला था। जिसे उसके मालिक को सौंप दिया गया है।

Comments

Leaver your comment

Enter valid Name
Enter valid Email
Enter valid Mobile
Enter valid Message